Saturday, October 25, 2014

KYC के कागज़ात जमा नहीं करवाए तो बंद हो सकता है बैंक खाता

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंकों से कहा है कि वे ऐसे ग्राहकों का खाता आंशिक रूप से बंद कर दें, जो कई बार याद दिलाने के बावजूद केवाईसी नियमों का पालन नहीं करते। साथ ही आरबीआई ने यह भी कहा है कि बाद में ऐसे खातों को पूरी तरह बंद भी किया जा सकता है। हालांकि, इसके लिए ग्राहकों को इस दौरान छह माह का वक्त मिलेगा। 
  • क्या है नोटिफिकेशन में: आरबीआई की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार, यह तय किया गया है

ऑनलाइन फोटो कोलाज बनाने के लिए ये हैं काम की वेबसाइट्स

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
त्योहारों के समय में शॉपिंग करने, तरह-तरह के पकवान बनाने, घर को रौशनी से सजाने के अलावा एक और ऐसा काम है जिसे करने में लोगों को बहुत मजा आता है। वो है फोटो खिंचवाना। अगर आपने त्योहार में ढेर सारी फोटोज खिंचवा ली हैं और उनका कोलाज बनाना चाहते हैं तो इसके लिए ऑनलाइन कोलाज मेकिंग वेबसाइट्स का सहारा लिया जा सकता है। एडिटिंग के लिए सिर्फ सॉफ्टवेयर ही नहीं, बल्कि कई ऐसी फ्री वेबसाइट्स भी हैं जिनकी मदद से फोटो को आसानी एडिट किया जा सकता है। फोटो एडिटिंग का शौक रखने वालों के लिए यह वेबसाइट्स काफी कारगर साबित हो सकती हैं। इन वेबसाइट्स की मदद से बहुत कम समय

एंड्राइड और टेबलेट के लिए भारतीय रेल का ख़ास ऐप्प, जो देगा हर जानकारी

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
भारतीय रेल की राष्ट्रीय ट्रेन पूछताछ प्रणाली (एनटीईएस) को अब एंड्राइड मोबाइल और टैबलेट्स पर डाउनलोड किया जा सकता है। इस ऐप को रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र द्वारा विकसित किया गया है। भारतीय रेल की आईटी विंग ने माइक्रोसॉफ्ट के परामर्श और समर्थन से इस साल अप्रैल में विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए उतरा था। इस ऐप का सपोर्ट बढ़ने के साथ अब यह एंड्राइड 2.3 जिंगरब्रेड ऑपरेटिंग सिस्टम या हायर वर्जन पर यह चल सकेगा। 

इनसे मिलिए: ये हैं 1093 चीजों के आविष्कारक

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
थॉमस अल्वा एडिसन वो शख्सियत हैं, जिनके नाम सैकड़ों उपलब्धियां दर्ज हैं। रोशनी से लेकर रसायन लैब तक, एडिसन ने वो हर छोटे-बड़े आविष्कार किए, जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में काफी मायने रखती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इतने बड़े आविष्कारक ने सिर्फ तीन महीने ही स्कूल का चेहरा देखा था। दरअसल, उनके स्कूल टीचर ने जब उन्हें 'निरा मूर्ख' करार दिया, तो उनकी मां को ये बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने एडिसन को घर पर ही पढ़ाने का फैसला ले लिया। हाल ही में उनका जन्मदिन था। इसके बाद एडिसन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने 10 साल की

प्रेरक प्रसंग: बड़े नुकसान के बाद भी शांत रहे न्यूटन

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
गुरुत्वाकर्षण की खोज करने वाले ब्रिटेन के महान वैज्ञानिक आइजेक न्यूटन बहुत ही शांतिप्रिय व्यक्ति थे। बड़ी से बड़ी परेशानी में भी वे अपना आपा नहीं खोते थे। हर प्रतिकूल परिस्थिति का सामना शांति एवं धैर्य से करते थे। उनके इसी स्वभाव को दर्शाती उनके जीवन की एक घटना है। बात उस समय की है, जब न्यूटन ट्रिनिटी कॉलेज में प्रोफेसर थे। उस समय उनकी आयु 51 वर्ष थी। तब तक न्यूटन अनेक प्रयोग कर एक वैज्ञानिक के रूप में ख्याति और विज्ञान के

प्रेरक प्रसंग: विचारों की दृढ़ता से अवश्य मिलती है सफलता

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
एक बार एक योगी और उनका शिष्य एक बड़े शहर में पहुंचे। उनके पास पैसा तो था नहीं। उन्हें भूख लगी थी और रात गुजारने के लिए कोई जगह भी चाहिए थी। शिष्य को लगा कि भोजन के लिए तो भीख मांगनी पड़ेगी और किसी पार्क में आसरा खोजना पड़ेगा। उसने योगी से कहा, 'समीप के पार्क में हम रात गुजार लेंगे।' योगी ने आश्चर्य से पूछा, 'खुले में?' शिष्य ने कहा, 'हां, क्यों नहीं?' योगी ने कहा, 'आज रात हम एक बड़े होटल में गुजारेंगे और वहां भोजन भी

गुस्से पर काबू पाने का ये भी है एक तरीका

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
आज के समय में अधिकांश लोगों की समस्या है अधिक गुस्सा करना। क्रोध कभी भी फायदेमंद नहीं हो सकता है, क्योंकि क्रोध के वश में व्यक्ति कई बार कुछ ऐसे काम कर देता है जो भविष्य में बड़ी परेशानियों का कारण बन जाते हैं। गुस्से में वाणी का संयम टूट जाता है और कई ऐसे शब्द भी हम बोल देते हैं जो कि अशोभनीय होते हैं। ये शब्द दूसरों के मन को पीड़ा भी पहुंचाते हैं। गुस्से के कारण घर-परिवार और समाज में भी हमारा सम्मान घटता है। काम करते

सावधान: आयकर विभाग रखता है आपके हर लेनदेन पर नजर

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
अगर आपका क्रेडिट कार्ड का बिल साल भर में दो लाख रुपए से अधिक है, तो यह आपके लिए जानना जरूरी है कि यह जानकारी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को पहुंच जाएगी। ध्यान देने वाली बात यह है कि आपके सभी बड़े वित्तीय लेन-देन पर विभाग की नजर रहती है और आपकी ओर से किए गए निवेश, बचत, खरीददारी- सभी की बाकायदा रिपोर्ट भी बना कर इनकम टैक्स अथॉरिटीज को भेजी जाती है। ऐसा एनुअल इन्फॉर्मेशन रिटर्न (एआईआर) के जरिए किया जाता

किसी भी भाषा में एक्सपर्ट बनने के लिए सात टिप्स

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
हमेशा अपटुडेट बने रहने के लिए ज़रूरी है कि कुछ न कुछ नया सीखते रहें। इसीलिए जब भी आपको टाइम मिले, तो समय को बर्बाद करने से बेहतर है कि आप एक नई भाषा सीखें या फिर जो भी भाषाएं आप जानते हैं, उन्हें बेहतर करने की कोशिश करें। इसके लिए ज़रूरी नहीं कि हमेशा बाहर जाकर पैसा खर्च के ही सीखा जाए। आप घर पर रहकर भी मुफ्त में नई भाषा सीख

खतरनाक परंपरा: दीवाली पर होती है लाठियों की बरसात

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
आपने मथुरा के बरसाना में होने वाली प्रसिद्ध 'लट्ठ मार होली' के बारे में सुना होगा। यहां के लोग होली में एक-दूसरे पर लाठियां बरसाते हैं। झांसी में इसी तर्ज पर हर साल गोबर्धन पूजा के दिन 'लट्ठ मार दिवाली' मनाई जाती है। ऐसा करके वे भगवान श्रीराम के वनवास से लौटने की खुशियां मनाते हैं, लेकिन यह लट्ठ मार दिवाली भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित होता है। इस दौरान काफी संख्या में महिलाएं और बच्चे भी मौजूद रहते हैं। झांसी के हमीरपुर में यह परंपरा कई वर्षों से चली आ रही हैं। कई गांवों के लोग इकट्ठा होकर इस पर्व को मनाते हैं। लठ्ठ मार दीवाली मनाने के लिए

एक दिवाली ऐसी भी: पत्थर बरसते हैं दोनों ओर, फिर खून से होता है माँ का तिलक

नोट: इस पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर/ ईमेल करने के लिए इस पोस्ट के नीचे दिए गए बटन प्रयोग करें। 
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से करीब 30 किलोमीटर दूर हलोग गाँव में दीवाली से अगले दिन काे पत्थरों की खूनी परंपरा का खेल खेला गया। नरबलि से शुरू हुई परंपरा पशुबलि के बाद पत्थरों के खूनी खेल तक सिमट आई है। इस खेल को देखने के लिए हलोग में हजारों की भीड़ जमा हुई।  दिवाली के अगले दिन मनाए जाने वाले धामी के पत्थरों के मेले में करीब 45 मिनट तक कटेडू आैर जमोगी राजवंश के लोग एक-दूसरे पर पत्थर मारते रहे। कटैडू के बबली के सिर पर लगे पत्थर से खून निकलने के बाद ही पत्थरों की बरसात बंद की गई। इसके बाद बबली के खून से

Wednesday, October 22, 2014

हमारे सभी सम्मानित पाठकों और उनके परिवारों को दीपावली के पावन पर्व पर सुख-शांति-समृद्धि-ऋद्धि-सिद्धि तथा जीवन में प्रसन्नता, उत्साह, उल्लास और सफलता की शुभेच्छाओं सहित हमारी ओर से हार्दिक शुभकामनाएं। दीपावली के दीपक की शिखा की भांति आप भी ऊर्जावान एवं ऊर्ध्वगामी बनें तथा अन्यों के जीवन को भी आलोकित करने में सक्षम बनें। 
॥शुभ दीपावली॥